»   » #Shock: "हां...मैंने बेस्ट एक्टर का अवार्ड खरीदा"

#Shock: "हां...मैंने बेस्ट एक्टर का अवार्ड खरीदा"

ऋषि कपूर ने अपनी किताब खुल्लम खुल्ला में कुछ ज़्यादा ही खुलकर बातें लिखीं हैं। इतनी खुली कि सुनकर आपके कानों से धुंआ निकलने लगे। अपने पापा के अफेयर से लेकर अपने बेटे तक उन्होंने किसी को नहीं छोड़ा है।

Written by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

हां...मैंने बेस्ट एक्टर का अवार्ड खरीदा है और इसीलिए अमिताभ बच्चन नाराज़ हैं। ऐसा कहना है ऋषि कपूर का अपनी किताब खुल्लम खुल्ला में। उन्होंने बताया कि उन्होंने बॉबी फिल्म के लिए बेस्ट एक्टर का अवार्ड खरीदा था। वो भी 30 हज़ार रूपये में।

ज़रा सोचिए कि बॉबी रिलीज़ हुई थी 1973 में और उस दौर में 30 हज़ार रूपये की क्या कीमत रही होगी। इतना ही नहीं, ऋषि कपूर बताते हैं कि अमिताभ बच्चन इसलिए उनसे काफी समय तक नाराज़ थे क्योंकि उन्हें लगा वो ज़ंजीर के लिए जीतेंगे।

rishi-kapoor-admits-to-buying-an-award-shocking-revelations-his-book

ऋषि कपूर यहीं नहीं रूके हैं, अपनी किताब में उन्होंने ऐसे ऐसे खुलासे किए हैं कि किसी को यकीन ही नहीं होगा। अमिताभ बच्चन के घमंड से लेकर अपने पिता राज कपूर के अफेयर तक। अपनी मां की ज़िल्लत तक सब कुछ उन्होंने इस किताब में खुल्लम खुल्ला कह डाला है।

वहीं उन्होंने सलमान खान के पिता सलीम खान और फरहान अख्तर के पिता जावेद अख्तर की भी जमकर क्लास ली है। उन्होंने कुछ ऐसी बातें लिखीं जो वाकई कोई भी एक्टर इस उम्र में तो नहीं लिखना चाहेगा-
 

मान लो अवार्ड खरीदा

ऋषि कपूर का कहना था कि मान लो मैंने अवार्ड खरीदा ही था क्योंकि एक आदमी ने मुझसे कहा था कि मुझे अवार्ड दिलवा देगा। बदले में तीस हज़ार लेगा। अब मैंने पैसे दे दिए और बाद में मुझे अवार्ड मिल गया तो मैं आज तक यही मानता हूं कि मैंने अवार्ड खरीदा था।

राज कपूर के अफेयर

मेरे पिता के अपनी हर हीरोइन के साथ कुछ ना कुछ ताल्लुक रहते थे। इतना ही नहीं नरगिस के साथ तो उनका अफेयर भी था। यहां तक कि मेरे होने तक भी वो मेरी मां से प्यार नहीं करते थे।

अमिताभ बच्चन का घमंड

ऋषि कपूर का कहना है कि अमिताभ बच्चन अपने किसी भी को स्टार को फिल्म का क्रेडिट नहीं देते थे। चाहे वो शशि कपूर हों, धर्मेंद्र हो, विनोद मेहरा हों या फिर मैं। उन्हें हर वक्त यही लगता था कि फिल्म में उनके अलावा और कोई ज़रूरी नहीं है।

शाहरूख मुझे थैंक यू कहे

ऋषि कपूर कहते हैं कि शाहरूख को डर मेरी वजह से मिली। मैं उस दौरान निगेटिव रोल नहीं करना चाहता था। बाद में यशजी ने मुझे सनी वाला रोल करने को कहा पर मैंने मना कर दिया क्योंकि मुझे पता था कि दूसरा किरदार इस रोल को खा जाएगा।

दाउद इब्राहिम के साथ चाय

मैं दाउद से मिलने पहुंचा तो बताया गया कि दाऊद ने कहा कि वह शराब न पीते हैं और न ही किसी को पिलाते हैं इसलिए उन्हें चाय पर बुलाया गया है। दाऊद ने कहा कि उन्हें 'तवायफ' काफी पसंद आई क्योंकि उसमें मेरा नाम दाऊद था!

रणबीर कपूर से रिश्ते

मेरे और रणबीर के बीच एक कांच की दीवार है। हम एक-दूसरे को देखते हैं। मगर कुछ भी महसूस नहीं करते। इसे सुधारने को लेकर नीतू ने प्रयास किए और मुझे भी इस बात की चिंता थी। मगर जब तक बहुत देर हो चुकी थी।

मां का कितना ध्यान

मेरे पिता शराब और फिल्म की मुख्य हीरोईनों से बहुत प्यार करते थे। फिल्म जगत की जानीमानी एक्ट्रेस नरगिस और वैजयंती माला से उनका अफेयर भी रहा। एक मौका ऐसा भी आया जब इसके कारण मेरी मां कृष्णा कपूर मुझे लेकर घर छोड़कर भी चली गई थीं।

नीतू कपूर के साथ ज़िंदगी

नीतू जब बीच में मेरी ज़िंदगी से चली गई तो मुझे समझ आया कि वो कितनी ज़रूरी है। मैंने तुरंत उससे शादी कर ली। और आज तक वो मुझे झेल रही है, इस काम के लिए उसे अवार्ड मिलना चाहिए।

सलीम - जावेद

ऋषि कपूर का मानना है कि सलीम जावेद उस दौर की सबसे ओवररेटेड जोड़ी थी। और आज तक इस जोड़ी ने ऋषि कपूर के लिए जितनी फिल्में लिखीं सब फ्लॉप हो गईं।

राजेश खन्ना का सपना तोड़ा

राजेश खन्ना का सपना था कि वो राज कपूर के साथ काम करें। सत्यम शिवम सुंदरम के लिए उन्हें फाइनल भी कर लिया गया था लेकिन ऋषि कपूर ने राज कपूर का दिमाग बदल दिया। और राजेश खन्ना का सपना सपना ही रह गया था।

गुलज़ार के साथ ख्वाहिश

ऋषि कपूर को मलाल है कि एक इंसान जिनके साथ वो अभी भी दिल से काम करना चाहते हैं वो हैं गुलज़ार। और बड़ी अजीब सी बात है कि आज तक गुलज़ार ने मेरे लिए एक लाइन तक नहीं लिखी है।

टीना मुनीम के साथ अफेयर

टीना मुनीम के साथ मेरी जोड़ी बड़ी अच्छी थी। मैंने उसके साथ जो भी फिल्में की वो काफी चलीं। उस दौरान वो संजय दत्त के साथ रिश्ते में थी और संजय दत्त को लगता था कि मेरे और टीना के बीच कुछ है। इस वजह से चीज़ें काफी अजीब हो गई थीं।

English summary
Rishi Kapoor admits to buying an Award shocking revelations in his book.
Please Wait while comments are loading...