»   » ये रहे सबूत..अजय देवगन के साथ जो हुआ सही हुआ

ये रहे सबूत..अजय देवगन के साथ जो हुआ सही हुआ

Posted By: Shweta
Subscribe to Filmibeat Hindi

अजय देवगन ऐसे एक्टर हैं जो अर्वाड्स से कोसों दूर रहते हैं। उन्हें सिर्फ अपनी फिल्म से मतलब होता हैं पर इस बार उन्हें जिस अर्वार्ड से नवाजा जा रहा उसे लेने से वो मना नहीं कर पाएंगे।

भारत सरकार उन्हें अपने क्षेत्र में बेहतरीन काम के लिए पदम श्री से नवाजेगी जो सिविलियन पुरस्कारों में से एक होता है। अजय देवगन पिछले 25 सालों से फिल्म इंडस्ट्री में एक्टिव हैं। बिना किसी कंट्रोवर्सी के सिर्फ फिल्मों में अपने अभिनय के दम पर वो इतने सालों से एक्टिव हैं।

[एक ब्लॉकबस्टर..और इतने स्टार्स!]

अजय देवगन ना तो पार्टी में ज्यादा दिखते हैं और ना हीं उनका कोई बॉलिवुड में खास सर्किल है। वो सबसे अनसोशल एक्टर्स में से एक हैं जबकि काजोल इसके ठीक उलट शायद इसलिए दोनों की जब शादी हुई तो सभी ये कह रहे थे कि ये बेमेल जोड़ी है..ज्यादा दिन नहीं टिकेगी वगैरा..वगैरा।

वैसे अजय देवगन की ज्यादातर फिल्में कापी सिरियस और और कोई एक इश्यू पर बेस्ड होती है। आइये आप भी जानिए की क्यों अजय देवगन हैं पद्म श्री के हकदार

क्योंकि अजय है इसके हकदार...

1. 25 सालों से लगातार एक्टिव

1. 25 सालों से लगातार एक्टिव

अजय देवगन की पहली फिल्म 1991 में फूल और कांटे आई थी जब से लेकर आज तक अजय देवगन लगातार फिल्मों में सक्रिय हैं और हर तरह के किरदार निभा चुके हैं।

2. निभाए एक से बढ़कर एक किरदार

2. निभाए एक से बढ़कर एक किरदार

इन 25 सालों में अजय ने इमानदार पुलिस ऑफिसर, गोलमाल जैसी कॉमेडी फिल्में, एक्शन फिल्में, जख्म जैसी मां-बेटे पर बनीं सिरियस फिल्म, द लीजेंड ऑफ भगत सिंह या राजनीति जैसी फिल्म हो वो हर तरह

के किरदान निभाए चुके हैं। अपनी सुपरहिट फिल्म दिलवाले में भी वो मेंटली चैलेंज इंसान के रोल में थे।

3. ज्यादातर फिल्मों से सीख देने की कोशिश

3. ज्यादातर फिल्मों से सीख देने की कोशिश

अजय देवगन की ज्यादातर फिल्में किसी सोशल इश्यू पर बनी होती है जिनका समाज पर गहरा प्रभाव पड़ता है इसका गंगाजल, और लीजेंड ऑफ भगत सिंह, सिंघम छोटा सा उदाहरण है।

4. 2 बार राष्ट्रीय पुरस्कार

4. 2 बार राष्ट्रीय पुरस्कार

अजय देवगन को 2 बार राष्ट्रीय पुरस्कार जीत चुके हैं जिससे पता चलता है कि उतने कितने शानदार एक्टर हैं। पहले जख्म के लिेए फिर लीजेंड ऑफ भगत सिंह के लिए उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुका है।

5. रिजनल सिनेमा पर भी ध्यान

5. रिजनल सिनेमा पर भी ध्यान

अजय देवगन रिजनल सिनेमा पर भी उतना हीं ध्यान देते हैं खासकर मराठी फिल्मों के लिए उनकी प्रोडक्शन कंपनी काफी ध्यान देती है। पिछले कुछ सालों में कई मराठी फिल्में उनकी कंपनी कर चुकी है

6.कंट्रोवर्सी से वास्ता नहीं

6.कंट्रोवर्सी से वास्ता नहीं

अजय देवगन का कंट्रोवर्सी से कोई लेना-देना नहीं होता। और जब पदम श्री पुरस्कार जैसे नागरिक पुरस्कार दिए जात हैं तो ये सब काफी मायने रखता नहीं तो सरकार की किरकिरी होती है जैसे सैफ अली खान के समय हुई थी।

7.समकालीन एक्टर्स को मिला सम्मान

7.समकालीन एक्टर्स को मिला सम्मान

सलमान खान को छोड़ दें तो अजय देवगन के समकालीन में सभी एक्टर्स को चाहे वो शाहरूख, आमिर खान, अक्षय कुमार या सैफ अली खान हों सभी को ये मिल चुका हैं तो जाहिर है अजय का ना मिलना भी बड़ा सवाल है क्योंकि अजय इनमें से किसी से भी कम नहीं हैं।

8. कॉर्मशियल सक्सेस की गारंटी

8. कॉर्मशियल सक्सेस की गारंटी

देखा जाए तो अजय देवगन की फिल्में कॉर्मशियल सक्सेस की गारंटी होती है मतलब उनकी फिल्में अच्छा-खासा कमा लेती हैं जिससे सरकार को भी टैक्स मिलता है।

9. बेबाकी से रखते हैं राय

9. बेबाकी से रखते हैं राय

अजय देवगन किसी भी मुद्दे पर बेबाकी से अपनी रखते हैं और इस तरह से रखते हैं कि वो कभी कंट्रोवर्सी में नहीं पड़ते बाकी एक्टर्स की तरह और वो बढ़ चढ़कर शामिल भी होते हैं चाहे वो अन्ना हजारे की रैली हो या चुनाव के समय इलेक्शन कैंपेनिंग करनी हो।

सलमान से लेकर अजय देवगन.. सारे बदल गए..

सलमान से लेकर अजय देवगन.. सारे बदल गए..

MUST READ

सलमान से लेकर अजय देवगन.. सारे बदल गए.. लेकिन ऐश के सामने सब फेल

English summary
Ajay Devgan is in film industry from last 25 years without controversies, Now govt. has declared to honoue him with Padam Shree and why he deserves it..read it here
Please Wait while comments are loading...