»   » #Palat: सबका ध्यान किधर है....असली हीरो इधर है!

#Palat: सबका ध्यान किधर है....असली हीरो इधर है!

By: shivani verma
Subscribe to Filmibeat Hindi

करण जौहर..बॉलीवुड इंडस्ट्री का ऐसा नाम जिन्होंने इस इंडस्ट्री की कायापलट करके रख दी। ऐसे डायरेक्टर जिन्होंने इतनी कम उम्र में सफलता का स्वाद चख लिया लेकिन अपनी ही पहली सफलता को अपनी आंखों से नहीं देख पाए, क्योंकि देश छोड़कर चले गए थे।

अपनी ही डेब्यू फिल्म रिलीज़ होने के बाद अगर किसी को अपनी ही सफलता को अपनी ही आंखों से देखने का मौका न मिले तो थोड़ा नहीं काफी बुरा लगता है। ये तब की बात है जब उनकी डायरेक्शन की पहली फिल्म कुछ कुछ होता है रिलीज़ हुई थी।

reason-why-karan-johar-is-different-from-other-director

कारण था अंडरवर्ल्ड की धमकी। भले ही उन्हें इस फिल्म के लिए धमकी मिली हो लेकिन इतनी कम उम्र में भी करण ने बिना डरे अपनी फिल्म रिलीज़ होने दी।

भले ही आज करण पर कुछ लोग हंसते हैं, लेकिन ये सच है कि वो वही लोग होते हैं जो करण के लेवल तक पहुंचने की औकात नहीं रखते। जिस उम्र में करण ने अपनी पहली सफलता पाई उतनी कम उम्र में ऐसे मुकाम तक पहुंचने का वो लोग ख्वाब भी नहीं देख सकते।

आज करण का जन्मदिन है, और उनके इस खास मौके पर हम उनके बारे में कुछ ऐसी बातें करने जा रहे हैं जिन्हें पढ़कर उनका मज़ाक उड़ाने वालों के मुंह पर ताला पड़ जाएगा..

कोई नहीं पहुंच सकता करण के लेवल तक

कोई नहीं पहुंच सकता करण के लेवल तक

सबसे पहली बात..जो लोग आज करण के बारे में उल्टा सीधा बोलने में हिचकते नहीं हैं उन्हें कोई बताए कि आज के समय में ऐसा कोई ही इंसान होगा जिसने कभी खुशी कभी गम नहीं देखी होगी। जिस समय ये फिल्म रिलीज़ हुई तब से लेकर आज तक इस फिल्म के डायलॉग से लेकर गानों तक हर घर में सुनते हुए आपको मिल जाएंगे।

कुछ कुछ होता है का रोमांस

कुछ कुछ होता है का रोमांस

और अगर आप थोड़े भी रोमांटिक हैं और कुछ कुछ होता है फिल्म देखी है तो आपके ज़हन में भी कुछ कुछ होता है के राहुल और अंजली का रोमांस ज़रूर आता होगा। खासतौर पर लड़की के दिल में, जिसका सपना हो कि उसका दूल्हा बिल्कुल राहुल जैसा हो।

सबका बचपन करण की फिल्मों में ही बीता

सबका बचपन करण की फिल्मों में ही बीता

आज कई लोग करण की फिल्मों को गालियां देते हैं लेकिन इसी के साथ सबसे बड़ा एक सच ये है कि उनका बचपन भी करण की फिल्मों को देखते हुए बीता होगा।

26 साल की उम्र में नेशनल अवॉर्ड

26 साल की उम्र में नेशनल अवॉर्ड

जी हां..करण को राष्ट्रीय पुरस्कार से तब सम्मानित किया गया जब उनकी उम्र महज़ 26-27 साल थी। और कुछ लोग उन्हें फिर भी उल्टा सीधा बोलते हैं।

सेक्सुएलिटी पर दिया मुंहतोड़ जवाब

सेक्सुएलिटी पर दिया मुंहतोड़ जवाब

कुछ लोग उनकी सेक्सुएलिटी पर उंगली उठाते हैं। कुछ लोग उन्हें गे करकर बुलाते हैं, लेकिन ये करण के गट्स ही हैं जो उन्होंने कभी भी अपनी सेक्सुएलिटी को बताए बिंदास होकर लोगों को मुंहतोड़ जवाब दिया। इतने बड़े आरोप को करण ने जिस तरह से हैंडल किया उसके लिए गट्स की ज़रूरत है।

शाहरुख के करियर की बेस्ट फिल्म दी

शाहरुख के करियर की बेस्ट फिल्म दी

हर जगह उन्हें एनआरआई टाइप डायरेक्टर बोला जाता था लेकिन इसी बीच वो करण ही थे जिन्होंने माई नेम इज़ खान जैसी फिल्म बनाई जो शाहरुख खान के करियर की बेस्ट फिल्म में से एक है।

निखिल आडवाणी को किया गाइड

निखिल आडवाणी को किया गाइड

निखिल आडवाणी की कट्टी बट्टी फिल्म तो आपको याद ही होगी, जो सुपरफ्लॉप हुई। ऐसे में वो करण जौहर ही थे जिन्होंने निखिल आडवाणी को अच्छे से गाइड किया और उन्होंने बना डाली कल हो न हो..और ये फिल्म भी हो गई शाहरुख के करियर की एक और बेस्ट फिल्म।

हर किसी को बनना है करण जौहर

हर किसी को बनना है करण जौहर

आपको बता दें कि भले ही आज कई डायरेक्टर उनकी और उनकी फिल्मों की आलोचनाएं करने में कमी नहीं छोड़ते लेकिन असल में जिस तरह का स्टारडम, रुतबा, टैलेंट और सफलता करण के पास है उसको देखते हुए सभी करण जौहर ही बनना चाहते हैं।

कई सुपरस्टार एक फिल्म में

कई सुपरस्टार एक फिल्म में

आपको बता दें कि कभी खुशी कभी गम बनाने वाले वाले करण सबसे कम उम्र के डायरेक्टर थे जिन्होंन एक ऐसी फिल्म बना डाली जिसमें उन्होंने कई सुपरस्टार को एक साथ कास्ट किया। इससे पहले अमर अकबर एंथनी ही ऐसी फिल्म थी जिसमें कई सुपरस्टार एक साथ देखे गए थे।

English summary
Reason Why Karan Johar Is Different From Other Director.
Please Wait while comments are loading...