»   » #EPIC: 30 साल हो गए लेकिन बॉलीवुड में ऐसा दोबारा कभी नहीं हुआ!

#EPIC: 30 साल हो गए लेकिन बॉलीवुड में ऐसा दोबारा कभी नहीं हुआ!

Written by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

बॉलीवुड में ऐसा बहुत ही कम होता है। कुछ एक चीज़ जो अमर हो जाए। ऐसा ही एक गाना था जो अमर हो गया। जो भी उसे जब भी सुन लेता तो रोने लग जाता था। गाने का नाम था चिट्ठी आई है। पंकज उदास की आवाज़, फिल्म का नाम ही था नाम। संजय दत्त और कुमार गौरव की कहानी।

गाना जब आया तो हिट हो गया। लेकिन धीरे धीरे उसका सुरूर ऐसा चढ़ा कि आज तक उस ज़ोन में कोई भी उस गाने को टक्कर नहीं दे पाया। जब भी जिसने भी सुना बस आंख भर जाती। 

Bollywood Emotional songs

गाने की कुछ लाइनें तो बहुत ही ज़्यादा मशहूर हुई थीं - और गाने को लिखा था आनंद बख्शी ने। और इस गाने को 30 साल हो गए। लेकिन आज भी उतना ही डाउनलोड किया जाता है और उतना ही सुना जाता है।

Bollywood Emotional songs

ऊपर मेरा नाम लिखा है, अंदर ये पैगाम लिखा हैं
ओ परदेस को जाने वाले, लौट के फिर ना आने वाले
सात समुंदर पार गया तू, हमको ज़िंदा मार गया तू
खून के रिश्ते तोड़ गया तू, आँख में आँसू छोड़ गया तू
कम खाते हैं कम सोते हैं, बहुत ज़्यादा हम रोते हैं
chitthi aai hai

हालांकि चिट्ठी आई है जैसे तो नहीं लेकिन कुछ और गाने तो जो इसी तरह इतने फेमस केवल इसलिए हो गए कि लोग उन्हें सुनते और रोने लग जाते -

संदेसे आते हैं 
गाना गाया था रूप कुमार राठौड़ और सोनू निगम ने। और लिखा था जावेद अख्तर ने।

Bollywood Emotional songs

मोहब्बतवालों ने, हमारे यारों ने, हमें ये लिखा है, कि हमसे पूछा है
हमारे गाँवों ने, आम की छांवों ने, पुराने पीपल ने, बरसते बादल ने
खेत खलिहानों ने, हरे मैदानों ने, बसंती बेलों ने, झूमती बेलों ने
लचकते झूलों ने, दहकते फूलों ने, चटकती कलियों ने
और पूछा है गाँव की गलियों ने...के घर कब आओगे 

चिट्ठी ना कोई संदेस
जगजीत सिंह का ये गाना लोगों ने हमेशा मनहूस कहा क्योंकि दो लाइन सुनिए और इंसान रोने लग जाता है। फिल्म थी दुश्मन। जहां काजोल की बहन की मौत हो जाती है। गाना लिखा था आनंद बख्शी ने।

Bollywood Emotional songs


एक आह भरी होगी, हमने ना सुनी होगी, जाते जाते तुमने, आवाज़ तो दी होगी
हर वक़्त यही है गम, उस वक़्त कहाँ थे हम, कहाँ तुम चले गए
चिट्ठी ना कोई संदेस, जाने वो कौन सा देस, जहां तुम चले गए! 

जीना यहां मरना यहां
राजकुपूर की मेरा नाम जोकर हर मायने में बेहतरीन फिल्म थी लेकिन फिल्म के गाने दिल में घर कर गए थे। गीत लिखा था शैलेंद्र ने और हर लाइन के साथ और भावुक हो जाता था।
जीना यहाँ मरना यहां, इसके सिवा जाना कहां
जी चाहे जब हमको आवाज़ दो, हम हैं वहीं हम थे जहां

Bollywood Emotional songs
 
कल खेल में हम हों न हों, गर्दिश में तारे रहेंगे सदा
भूलोगे तुम, भूलेंगे वो, पर हम तुम्हारे रहेंगे सदा
होंगे यहीं अपने निशां, इसके सिवा जाना कहां

इसके बाद ऐसा वाकई कोई गाना नहीं बना जो इन गानों को टक्कर दे पाता। लता मंगेशकर का ऐ मेरे वतन के लोगों, बिल्कुल ही अलग परिस्थिति का गाना था। लेकिन नए दौर में एक नई खेप आई। और फिर ऐसे कुछ गाने बने जिन पर आज से 30 साल बाद भी बात होगी -

मेरी मां
तारे ज़मीन पर, के इस गाने ने अच्छे अच्छों को इमोशनल किया था। इसे गाया था शंकर महादेवन ने और लिखा था प्रसून जोशी ने।

Bollywood Emotional songs

मैं कभी, बतलाता नहीं, पर अंधेरे से डरता हूँ मैं माँ
यूं तो मैं, दिखलाता नहीं, तेरी परवाह करता हूँ मैं माँ
तुझे सब है पता, है न मां, तुझे सब है पता.. मेरी माँ

भीड़ में, यूं ना छोड़ो मुझे, घर लौट के भी आ ना पाऊं माँ
भेज ना इतना दूर मुझको तू, याद भी तुझको आ ना पाऊँ माँ
क्या इतना बुरा हूं मैं माँ?

लुका छिपी
इस गाने में क्या था पता नहीं, शायद लता मंगेशकर और ए आर रहमान की आवाज़ या फिर प्रसून जोशी की कलम लेकिन हर शब्द छू गया था। 

Bollywood Emotional songs

लुका छुपी...बहुत हुई...सामने आजा ना
कहाँ कहाँ ढूँढा तुझे, थक गई है अब तेरी माँ

आजा साँझ हुई मुझे तेरी फिकर,धुंधला गई देख मेरी नज़र...

English summary
Chitthi Aayi Hai completes 30 years and fans should definitely remember this!
Please Wait while comments are loading...

Bollywood Photos

Go to : More Photos