»   » W.O.W. सलमान के एक ऑटोग्राफ ने बना दी थी रणबीर की लाइफ!

W.O.W. सलमान के एक ऑटोग्राफ ने बना दी थी रणबीर की लाइफ!

Posted by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

स्टारडम हमेशा दो ही चीज़ों से आती हैं - एक फैन और दूसरा स्टार। जितना बड़ा फैन उतना ही बड़ा उसका स्टार। यही कारण है कि कोई भी स्टार कभी भी फैन को अंडरएस्टिमेट नहीं करता। 

हर स्टार जानता है कि फैन्स हैं तो ही वो भी है। और स्टार्स के इस स्टारडम को कुछ फिल्मों ने बखूबी उतारा। शाहरूख खान की फैन का पूरा केंद्र है एक फैन और उसके सुपरस्टार की कहानी।
[मैं और सलमान सबसे LUCKY हीरो] 

लेकिन बॉलीवुड में कई ऐसी फिल्में हैं जिन्होंने एक फैन और उसके स्टार की कहानी बखूबी परदे पर उतारी। कभी कभी केवल कुछ सीन किसी की स्टारडम दिखा गए तो कभी पूरी फिल्म ही किसी स्टार पर बना दी गई।

लेेकिन फैन और स्टार का ये मंत्र बॉक्स ऑफिस पर हमेशा काम किया। शाहरूख खान की फैन से पहले भी कई ऐसी फिल्में हैं जो फैन और स्टार का बॉन्ड दिखा चुकी हैं - 
 

फैन

शाहरूख खान की फैन एक फैन गौरव चानना और उसके सुपरस्टार आर्यन खन्ना की कहानी है। दोनों ही कैसे एक दूसरे के रास्ते में आएंगे और एक दूसरे के दुश्मन बन जाएंगे।

ओम शांति ओम

ओम शांति ओम में भी शाहरूख खान दीपिका पादुकोण के बहुत बड़े फैन होते हैं और दिन रात बस उनके ही सपने देखते रहते हैं। ये अलग बात है कि फिल्म में किसी असली स्टार का स्टारडम नहीं दिखाया गया।

गुड्डी

बॉलीवुड में स्टारडम को सबसे पहले अगर कहीं इस्तेमाल किया गया है तो वो है एन सी सिप्पी की गुड्डी में। जया भादुड़ी धर्मेंद्र की बहुत बड़ी फैन होती हैं और इस बात को उनकी बॉयफ्रेंड समझा ही नहीं पाते कि वो सिर्फ स्टार हैं।

अजब प्रेम की गज़ब कहानी

रणबीर कपूर कैटरीना कैफ को सलमान खान से मिलवाते हैं क्योंकि वो उनकी बहुत बड़ी फैन होती हैं और रणबीर को लगता है कि कैटरीना उनकी भी फैन हो जाएंगी। Mmmmmm खैर!

इश्क विश्क

अगर आपको याद हो तो फिल्म में शाहिद कपूर अपनी गर्लफ्रेंड का दिल जीतने के लिए सचिन तेंदुलकर से मिलवाते हैं और बात करवाते हैं। हालांकि दोनों ही डुप्लीकेट होते हैं।

मैं माधुरी दीक्षित बनना चाहती हूं

एक गांव की लड़की का सपना होता है कि वो माधुरी दीक्षित बनना चाहती है। और अंतरा माली ने अपने इस रोल को बखूबी निभाने की कोशिश की थी।

मस्त

आफताब शिवदसानी एक हीरोइन के फैन होते हैं और उनसे मिलने मुंबई तक आ जाते हैं। वो हीरोइन होती हैं उर्मिला मांतोडकर!

मुरब्बा

अगर आपने बॉम्बे टॉकीज़ नाम की फिल्म नहीं देखी है तो आप काफी कुछ मिस कर रहे हैं। खैर फिल्म में एक मुरब्बा नाम की एक कहानी है जहां अमिताभ बच्चन का एक इलाहाबादी फैन, अपने पिता की आखिरी इच्छा पूरी करने के लिए उन्हें मुरब्बा खिलाने मुंबई तक आता है।

बिल्लू

बिल्लू एक नाई है और उसका एक सुपरस्टार दोस्त साहिर खान। साहिर की पूरी दुनिया फैन है पर वो बिल्लू का दोस्त है जब ये सबको पता चलता है तो मज़ा ही आ जाता है।

English summary
Bollywood films which were based on Superstardom and fan effect.
Please Wait while comments are loading...