»   » नंबर 1 बनने के लिए ....ये खान ऐसे करते हैं प्लानिंग.....हैरान हो जायेंगे आप

नंबर 1 बनने के लिए ....ये खान ऐसे करते हैं प्लानिंग.....हैरान हो जायेंगे आप

दंगल के बाद आमिर खान अब ठग ऑफ हिंदुस्तान की तैयारी में जुट गए हैं। उनकी यह फिल्म 2018 दिवाली पर रिलीज होगी। आखिर क्यों, पढ़े इस लेख में।

Written by: Prachi Dixit
Subscribe to Filmibeat Hindi

दंगल की धाकड़ कमाई की गिनती अभी थमी भी नहीं कि इस बीच ठग ऑफ हिंदुस्तान ने आमिर खान को साल भर खबरों में रहने का मौका दे दिया है। मौका भी ऐसा जो आमिर के फैंस के लिए किसी लॉटरी से कम नहीं है। यह फिल्म के 2018 की दिवाली पर रिलीज होगी। एक तरफ जहां हिंदी सिनेमा के एक्टरों के लंबी फेहरिस्त साल में कम से कम दो बार बड़े पर्दे पर खुद को देखने की ख्वाहिश रखते हैं।वहीं आमिर सभी एक्टरों से जुदा साल के अंत या फिर बीच में केवल एक फिल्म के जरिये दर्शकों के बीच आने की कोशिश करते हैं।

कोशिश भी कोई ऐसी वैसी नहीं बल्कि पूरी प्लानिंग के साथ। ऐसे ही उन्हें बॉलीवुड का परफेक्शनिस्ट खान नहीं कहा जाता है।कहानी और किरदार के मामले में आमिर खान बॉलीवुड के सभी बिग स्टार को पीछे छोड़ जाते हैं। उनकी फिल्मों के गणित से इस बात का अंदाज आसानी से लगाया जा सकता है।आमिर खान के लिए किसी भी फिल्म से जुड़ना बाएं हाथ का खेल नहीं है। उनके जैसे फैसले लेने का दम इंडस्ट्री के किसी भी सुपरस्टार में नहीं है।

इसका सबसे बड़ा उदाहरण दंगल है। महावीर फोगाट की इस बायोपिक में आमिर खान ने खुद को महावीर फोगाट बनाने के लिए जो मेहनत की है, उसका किस्सा जग जाहिर है। सिर्फ फिल्म में दिखाए गए चंद मिनट के सीन के लिए आमिर ने खुद को फैट से फिट बनाया। इस पूरे प्रोसेस से गुजरना दर्दनाक है। हर स्टार के बस का यह काम नहीं है।एक फिल्म आमिर के लिए केवल 2 या 3 घंटे की कहानी नहीं होती है। एक पूरा जीवन होता है।जो वह अपनी हर फिल्म के साथ एक जिंदगी बिताते हैं। हर फिल्म उनके लिए नया जन्म होता है।

आखिर ऐसे कौन से फैसले होते हैं, जो आमिर खान को एक फिल्म के पीछे अपनी जिंदगी के एक साल देने पड़ते हैं। चलिए आज हम आपको बताते हैं आमिर खान कैसे खुद के लिए परफेक्ट फैसला लेते हैं।

1 - आम इंसान की खास कहानी

कहानी पर आमिर का फोकस सबसे पहले होता है। दर्शकों की साधारण जिंदगी के असाधारण किस्सों पर उनकी पैनी नजर होती है। 3 इडियट्स, पीके, तारे जमीन पर गौर करके इसे आसानी से समझा जा सकता है।

2 - किरदार में अनोखा पन

फिल्म के लिहाज आमिर के लिए यह सबसे प्रमुख होता है। आखिर किरदार ही एक्टर की पहचान है। उनकी फिल्मों में किरदार दिखने में साधारण पर करतब में यूनिक होना चाहिए जो लोगों के दिलों में आसानी से घर बना सके। 3 इडियट्स का रणछोड़ दास, पीके का भोजपुरी बोलने वाला एलियन इसे साबित करते हैं।

3 - कैमरे पर सही पकड़

निर्देशक के मामले में आमिर किसी तरह की ढिलाई बर्दाश्त नहीं करते हैं। राजुकमार हिरानी,नितेश तिवारी के बाद अब उन्होंने ठग ऑफ हिंदुस्तान में विजय कृष्ण आचार्य को चुना है। वह धूम सीरीज की तीनों फिल्मों के राइटर और धूम 3 निर्देशक रहे हैं हैं।

4 - दमदार कास्टिंग

टैलेंटेड एक्टरों की लंबी फेहरिस्त हमेशा आमिर के फिल्म का हिस्सा होती हैं। ठग ऑफ हिंदुस्तान में अमिताभ बच्चन भी होंगे। जल्द ही बाकि के एक्टरों से भी पर्दा उठेगा।

5 - हर किरदार पर नजर

अपने किरदार के साथ उनका ध्यान स्क्रिप्ट के सभी किरदारों पर होता है। आमिर कहीं से किसी किरदार को स्क्रीन पर कमजोर नहीं दिखाना चाहते हैं।

6 - परफेक्ट रिलीज़

ईद और क्रिसमस पर अपनी फिल्म को रिलीज करना अब बिग स्टार के लिए फैशन हो गया है। आमिर भी दंगल के बाद ठग ऑफ़ हिंदुस्तान को 2018 के दिवाली पर रिलीज़ करेंगे।

7 - फिल्मी जुआ

हर एक्टर के लिए किसी फिल्म से जुड़ना बहुत बड़ा जुआ खेलना होता है। आमिर इस खेल के पक्के बादशाह हैं। उन्हें पता है रिस्क ही बॉक्स ऑफिस पर फिक्स होने का सही रास्ता है।

8 - एडिटिंग और लोकेशन

आमिर अपनी फिल्म के हर छोटे -बड़ी गतिविधियों से जुड़े रहतेहैं। फिर चाहे वो एडिटिंग हो या लोकेशन।

9 - टीम वर्क

आमिर खान अपनी टीम वर्क में यकीन रखते हैं। वह हर सीन और स्क्रिप्ट के हर पहलू पर अपने को- एक्टर, डायरेक्टर और राइटर से चर्चा करते हैं।

10 - प्लानिंग के बादशाह

प्रमोशन की प्लानिंग में भी आमिर उतना ही समय देते हैं, जितना वो अपने किरदार को देते हैं। आमिर मीडिया फ्रेंडली हैं। इसके अलावा वो ऐसा विषय चुनते हैं, जो उन्हें सुर्खियों में बनाए रखता है।

English summary
Why Aamir Khan take a one year gap between all his movie, we have a all the detail, read here.
Please Wait while comments are loading...